Welcome To Anondo Gaan

CONTENTS

Friday, June 13, 2014

Kisi Baat Par Main Kisi Se Khafa Hoon - Lyrics & Translation

Lyrics 

Kisi baat par main kisi se khafa hoon 
Main zindaa hoon par zindagi se khafa hoon 

Mujhe doston se shiqaayat hai shaayad 
Mujhe dushmanon se muhabbat hai shaayad 
Main is dosti dushmani se khafa hoon 

Na jaane kahaan kab kise dekhtaa hoon 
Magar main jahaan jab jise dekhtaa hoon 
Samajhataa hai vo main usi se khafa hoon 

Main jaagaa huaa hoon, main soyaa huaa hoon 
Main dil ke andheron mein khoyaa huaa hoon 
Main is chand ki chandni se khafa hoon 

किसी बात पर मैं किसी से खफ़ा हूँ 
मैं ज़िंदा हूँ पर जिंदगी से खफ़ा हूँ 
खफ़ा हूँ, खफ़ा हूँ, खफ़ा हूँ 

मुझे दोस्तों से शिकायत हैं शायद 
मुझे दुश्मनों से मोहब्बत हैं शायद 
मैं इस दोस्ती दुश्मनी से खफ़ा हूँ 

न जाने कहा कब किसे देखता हूँ 
मगर मैं जहा जब जिसे देखता हूँ 
समझता हैं वो मैं उसी से खफ़ा हूँ 

न जागा हुआ हूँ, ना सोया हुआ हूँ 
मैं दिल के अंधेरों में खोया हूँ 
किसी चाँद की चाँदनी से खफ़ा हूँ 


Lyrics : Anand Bakshi
Music: R.D. Burman, 



Translation 

On some issue with someone upset I am 
I am very much alive but with life upset I am. 

With friends I have some issues, I guess. 
With foes I have affection, I guess. 
With this friend-foe situation, upset I am. 

I know not towards whom I turn my eyes. 
But whenever towards someone I turn my eyes. 
He thinks that with him 
upset I am. 

Awake I am or asleep I am. 
In darkness of heart, lost I am. 
With moon's moonlight, upset I am. 


© Translation in English by Deepankar Choudhury